BREAKING NEWS
बिहारशरीफ में ईडी का बड़ा छापा : क्रिप्टो करेंसी से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग रैकेट का भंडाफोड़...        सदर अस्पताल बिहारशरीफ में मरीज को कंधो का सहारा...        लूट का आरोपी गिरफ्तार : पुलिस ने दिया अपराधियों को चुनौती, जल्द होंगे बाकी सभी काबू...        बेटी के जन्मदिन के लिए कर्ज वापसी की मांग पर महिला की निर्मम हत्या, आरोपी फरार...        पीसविंग प्रोडक्शन का नया प्रोजेक्ट : लीगल बाबा जल्द होगी रिलीज...        महिलाएं अब अपनी सुरक्षा के लिए स्वतंत्र होकर बोल सकती है : जानिए अपनी नजदीकी थाने का महिला हेल्प डेस्क नंबर...        बेगूसराय में भीषण सड़क दुर्घटना में नालंदा के युवक समेत पांच की मौत, दो गंभीर...        बिहार में जारी है बदलाव का दौर: जानिए नालंदा, नवादा और बेगूसराय में कौन संभालेगा प्रखंडों की कमान...        लायंस क्लब ऑफ नालंदा ने डॉक्टर्स और चार्टर्ड अकाउंटेंट डे पर किया विशेषज्ञों का सम्मान...        ससुराल में रह रहे दामाद की संदिग्ध मौत : घटना के जांच में जुटी पुलिस...       
post-author
post-author

कितनी बार पाला बदल चुके हैं सबके नीतीश ?

Politics 27-Jan-2024   10909
post

Patna : 1974 में छात्र राजनीति के जरिए पॉलिटिक्स में एंट्री मारने वाले नीतीश कुमार अब तक पांच बार पाला बदल चुके हैं. जनता दल का हिस्सा रहे नीतीश कुमार ने पहली बार 1994 में पाला बदला. समाजवादी नेता जॉर्ज फर्नांडीस, ललन सिंह के साथ मिलकर 1994 में नीतीश ने समता पार्टी बनाई. 1995 के विधानसभा चुनाव के लिए समता पार्टी ने वामदलों के साथ गठबंधन किया. मगर जब सफलता हाथ नहीं लगी तो उन्होंने वामदलों का हाथ छोड़ा और एनडीए में शामिल हो गए. 

1996 में नीतीश कुमार ने दूसरी बार पलटी मारते हुए एनडीए का दामन थामा. बीजेपी नेतृत्व वाले एनडीए के साथ नीतीश का सफर 2010 तक चला. फिर एनडीए में नरेंद्र मोदी के बढ़ते कद को देखते हुए 2014 में नीतीश कुमार लोकसभा चुनाव अकेले लड़ा. उनके खाते में दो सीटें आईं और फिर 2010 में सीएम बनने वाले नीतीश ने सीएम पद छोड़ दिया. 2015 में तीसरी बार पलटी मारते हुए उन्होंने महागठबंधन बनाया. विधानसभा चुनाव से ठीक पहले वह सीएम भी बन गए. 

महागठबंधन के साथ उन्होंने 2017 तक सरकार चलाई. इस दौरान वह सीएम पद पर काबिज रहे. हालांकि, फिर तेजस्वी यादव का नाम IRCTC घोटाले में आया और नीतीश ने चौथी बार पलटी मारते हुए बीजेपी में जाने का फैसला किया. 2020 चुनाव में जब जेडीयू को 43 सीटें मिलीं तो उन्हें दिक्कतें होने लगीं. इसके बाद उन्होंने 2022 में पांचवीं बार पलटी मारते हुए बीजेपी का दामन छोड़ा और फिर से महागठबंधन में शामिल हो गए.

post-author

Realated News!

Leave a Comment

Sidebar Banner
post-author
post-author