BREAKING NEWS
बिहारशरीफ में ईडी का बड़ा छापा : क्रिप्टो करेंसी से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग रैकेट का भंडाफोड़...        सदर अस्पताल बिहारशरीफ में मरीज को कंधो का सहारा...        लूट का आरोपी गिरफ्तार : पुलिस ने दिया अपराधियों को चुनौती, जल्द होंगे बाकी सभी काबू...        बेटी के जन्मदिन के लिए कर्ज वापसी की मांग पर महिला की निर्मम हत्या, आरोपी फरार...        पीसविंग प्रोडक्शन का नया प्रोजेक्ट : लीगल बाबा जल्द होगी रिलीज...        महिलाएं अब अपनी सुरक्षा के लिए स्वतंत्र होकर बोल सकती है : जानिए अपनी नजदीकी थाने का महिला हेल्प डेस्क नंबर...        बेगूसराय में भीषण सड़क दुर्घटना में नालंदा के युवक समेत पांच की मौत, दो गंभीर...        बिहार में जारी है बदलाव का दौर: जानिए नालंदा, नवादा और बेगूसराय में कौन संभालेगा प्रखंडों की कमान...        लायंस क्लब ऑफ नालंदा ने डॉक्टर्स और चार्टर्ड अकाउंटेंट डे पर किया विशेषज्ञों का सम्मान...        ससुराल में रह रहे दामाद की संदिग्ध मौत : घटना के जांच में जुटी पुलिस...       
post-author
post-author

झड़झरिया ठेले पर सदर अस्पताल बिहारशरीफ : रेफर मरीज के परिजन एंबुलेंस के जगह झड़झरिया ठेले पर मरीज को लें गए आखिर क्यों ?

Bihar 28-Jul-2023   9891
post

बिहारशरीफ : उपमुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने 60 दिनों के भीतर स्वास्थ्य व्यवस्था के कायाकल्प का दावा किया था लेकिन बिहारशरीफ में हर सप्ताह कुछ ऐसी तस्वीर सामने आती है कि स्वास्थ्य सिस्टम का मजाक बन जाता है। चाहे वो शराब हो या टॉर्च पर मरीजों का इलाज हो या लाखो रुपए से बनी खराब लिफ्ट का मामला हो ऐसे कई मामले जो दिन प्रतिदिन स्वास्थ्य सिस्टम का मजाक बनाता जा रहा है और ये मजाक कोई और नहीं कुर्सी पर बैठे कुछ अधिकारी बना रहे है। क्योंकि कहीं न कहीं इन अधिकारियों के बचाव के सफेद पोश नेताओं का सुरक्षात्मक वरदान प्राप्त है इन्हे और इनके सिस्टम को। वही ताजा मामला गुरुवार की देर रात का जब सदर अस्पताल बिहारशरीफ में दीपनगर थाना क्षेत्र के नवीनगर गांव निवासी इंद्रदेव पासवान का 34 वर्षीय पुत्र शैलेंद्र कुमार को जख्मी हालत में अस्पताल लाया गया था। घंटो इलाज के बाद उसे बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया गया। जब रेफर किया गया तो मरीज के परिजन इधर उधर एंबुलेंस ढूंढते रहे लेकिन उन्हें सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाई जिस वजह से जल्दबाजी में उन्होंने झरझडिया ठेला गाड़ी को बुलाया और उस पर अपने मरीज को सदर अस्पताल से ले गए। और ये इस अस्पताल का पहला ऐसा मामला नही है इससे पहले भी कई बार ऐसी तस्वीर सामने आ चुकी है उसके बावजूद भी न सिस्टम संभला है ना सिस्टम को चलाने वाले अधिकारी।

post-author

Realated News!

Leave a Comment

Sidebar Banner
post-author
post-author