BREAKING NEWS
मुख्यमंत्री के गृह जिले में 'सात निश्चय' योजना अधूरी : 10 साल बाद भी नल जल से वंचित गांव...        कोसुक डंपिंग यार्ड से निकलने वाले जहरीले धुएं से ग्रामीण परेशान : ग्रामीणों की सेहत पर खतरा...        नालंदा में ग्रामीण विकास मंत्री के ही क्षेत्र में नही हुआ है सड़कों का विकास...        रामनवमी जुलूस और लोकसभा चुनाव प्रशासन की प्रतिबद्धता : शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से होगा आयोजन...        रामलखन सिंह यादव महाविद्यालय के छात्रों ने लोकतंत्र को करीब से समझा : आखिर कैसे पढ़िए पूरी खबर...        रामनवमी शोभा यात्रा को स्थगित किए जाने को लेकर विहिप द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति है भ्रामक : जिला प्रशासन करेगी जांच...        क्षेत्र भ्रमण के दौरान जनता ने सांसद कौशलेंद्र कुमार को दिखाया सच का आईना...        वर्ग 5 एवं वर्ग 8 की वार्षिक परीक्षा समाप्ति के उपरांत शिक्षक व अभिभावक का बैठक आयोजन...        बिहारशरीफ में पंचाने नदी के किनारे युवक का शव मिलने से सनसनी...        है तैयार हम : नालंदा पुलिस द्वारा जिले से अपराधी व अपराध का सफाया अभियान जारी...       
post-author
post-author
post-author
post-author

रामनवमी पर निकली शोभायात्रा महीने भर बाद पहुंची बाबा मणिराम अखाड़ा

Bihar 05-May-2023   10054
post

नालंदा : नालंदा में रामनवमी पर निकली शोभायात्रा लगभग एक महीने बाद गंतव्य तक पहुंची है। भगवान राम-सीता को बाबा मणिराम के अखाड़ा तक पहुंचा दिया गया। दरअसल, 31 मार्च को बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद एवं अन्य संगठनों के द्वारा रामनवमी शोभायात्रा निकाली गई थी। दो पक्षों के बीच हुई हिंसा के बाद शोभायात्रा को बीच में ही रोकना पड़ा था। इसके कारण भगवान राम-सीता की प्रतिमा अपने गंतव्य बाबा मणिराम के अखाड़ा तक नहीं पहुंच सकी थी। रामनवमी पूजा समिति के अनुरोध पर पुलिस और प्रशासन की उपस्थिति में शुक्रवार की सुबह भगवान राम एवं माता सीता की मूर्ति को ब्रह्म मुहूर्त में शहर के मोगल कुआं से बाबा मणिराम के अखाड़ा ले जाया गया। अखाड़ा समिति के सदस्यों के द्वारा मूर्ति की पूजा की गई। जिलाधिकारी शशांक शुभंकर एवं पुलिस अधीक्षक अशोक मिश्रा भारी सुरक्षा बल के साथ मौजूद रहें।दरअसल रामनवमी शोभा यात्रा बिहार शरीफ में कई वर्षों से आयोजित हो रही है। परंपरा यह रहती है कि भगवान राम सीता की प्रतिमा को बाबा मणिराम के अखाड़ा तक ले जाया जाए और वहां पूजन के बाद शोभायात्रा को समाप्त किया जाए। लेकिन इस बार शोभायात्रा अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच सका था। इसके कारण भगवान राम और सीता की मूर्ति को मुगल कुआं में पुलिस की देखरेख में रखा गया था जिसे आज भारी सुरक्षा के बीच बाबा मणिराम के अखाड़ा तक पहुंचाया गया।


इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल एवं अखाड़ा समिति के द्वारा जिला प्रशासन को धन्यवाद ज्ञापन किया गया।बता दें कि 31 मार्च और एक अप्रैल को रामनवली जुलूस के दौरान दो पक्षों में भिड़ंत के बाद हिंसा भड़क गई थी। इसमें पहाड़पुर के पास दो पक्षों में कहासुनी के बाद फायरिंग शुरू हो गई थी। इस दौरान दोनों पक्षों की ओर से 30-40 राउंड फायरिंग हुई। फायरिंग में दो पक्षों के एक-एक को गोली लगी, जिसमें 17 साल के गुलशन की मौत हो गई थी। एक भवन में आग लगा दी गई थी। उपद्रव इतना बढ़ा कि तनाव पर काबू पाने के लिए धारा 144 से काम नहीं चला। प्रशासन को कर्फ्यू लगाना पड़ गया था। इतना ही नहीं हालात शांत करने के लिए प्रशासन ने इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी थी। हालांकि, प्रशासन-पुलिस और स्थानीय लोगों की कोशिश से जल्द ही हालात सामान्य हो गया।

post-author

Realated News!

Leave a Comment

Sidebar Banner
post-author
post-author
post-author
post-author