Nawada : धरती फॉउंडेशन के संस्थापक कवि निशांत भारद्वाज राजपूत को झारखंड नमन राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान मिला।

Nawada : रजौली झारखंड 21वीं स्थापना दिवस पर बिहार के रजौली प्रखंड के अमावां गांव निवासी धरती फॉउंडेशन के संस्थापक कवि निशांत भारद्वाज राजपूत को सम्मानित किया गया।इन्हें यह सम्मान पर्यावरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य को लेकर दिया गया है।धरती फाउंडेशन 2016 से पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य कर रही है। 2016 में कवि निशांत भारद्वाज के द्वारा पूरे बिहार में 1000 किलोमीटर की साईकल यात्रा किया गया था।जिसका मुख्य उद्देश्य था कि किसानों को खेती के लिए पानी की समस्या।इस अभियान के तहत इन्होंने 200 बिहार के गावों को भ्रमण किया एवं जलाशयों और रैन वाटर हार्वेसिटिंग तैयार करने पर जोर दिया।कवि निशांत भारद्वाज ने कहा कि झारखंड राज्य के तत्वावधान में यह सम्मान मिलना कहीं न कही अपनी हौसले को और मजबूत करता है।धरती फाउंडेशन भारत नदी अभियान को लेकर कार्य कर रही है।जिसके अंतर्गत मिशन 500 करोड़ वृक्षारोपण की मुहिम को चलाया जा रहा है।इसे पूरा करने का निर्णय संस्था के द्वारा 2021-50 तक रखा गया है।संस्था खासकर नदियों के संरक्षण को लेकर कर कर रही है।नदियों के तट पर वृक्षारोपण करना एवं पर्यावरण के संरक्षण को लेकर कार्य करना सबसे अहम है।आज धरती फाउंडेशन करीब 3 लाख वृक्षारोपण कर चुकी है।संस्थापक ने रांची प्रेस क्लब के तत्वाधान में आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में अपने बातें को बेबाक अंदाज़ में रखा।उन्होंने कहा कि जब आप कार्य को ईमानदारी ने निभाते है तो आपके अंदर वह स्वतः दिख जागेगा।आप एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं,आप जो भी करते हैं समाज के साथ जुड़कर करते हैं तो लोग आप को जरूर जानेंगें। मुझे नही लगता है कि एक सामाजिक कार्यकर्ता को भी अपने बारे में बताने की जरूरत है। उन्होंने सबसे अहम बात ये कहा ही आप भारत मे रहते हैं।यही देश दुनियां को जीना सिखाया है आप परेशान क्यूं होते हैं। हम कल भी अच्छे थे,आज भी अच्छे है।कवि निशांत भारद्वाज के विद्यार्थी जीवन के साथ साथ सामाजिक कार्यों को लेकर अपने लिखी किताबों को लेकर भी बात किये।जिसका टाइटल है ‘मैं विश्व मे भारत नहीं भारत मे विश्व ढूढ़ता हूं’ ।
इस उपरोक्त सेमिनार में मुख्यातिथि राज्य के मंत्री सत्यानंद भोक्ता विशिस्ट अतिथि पूर्व सांसद श्री भुनेश्वर प्रसाद मेहता ,विनोबा भावे विश्विद्यालय के प्रतिकुलपति अजीत सिन्हा , केंद्रीय विश्वविद्यालय के पूर्व डीन बी पी सिन्हा ,महेंद्र सिंह धोनी के कोच चंचल भटाचार्य , आर के डी एफ के डीन डॉ अनिता कुमारी उपस्थित थे। देश भर के कई सम्मानित प्रोफेसर, कुलपति ,पदाधिकारी शिक्षाविद,राज नेता ,समाजिक कार्यकर्ता ,लेखक, युवा नेता एवं सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधि शामिल हुए।

ऋषभ कुमार (रजौली) की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *