ESC

रसलपुर पंचायत के मुखिया मुन्ना सहनी एवं पंचायत सचिव इंद्रनाथ भगत के विरुद्ध सरकारी राशि के अवैध निकासी एवं वित्तीय अनियमितता करने के आलोक में बीडीओ मुकेश कुमार ने दर्ज कराई प्राथमिकी

भगवानपुर, बेगूसराय :रसलपुर पंचायत के मुखिया मुन्ना सहनी एवं पंचायत सचिव इंद्रनाथ भगत के विरुद्ध सरकारी राशि के अवैध निकासी एवं वित्तीय अनियमितता करने के आलोक में बीडीओ मुकेश कुमार द्वारा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. दर्ज प्राथमिकी में बीडीओ मुकेश कुमार ने बताया है कि ग्राम पंचायत राज रसलपुर के ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के खाता से मुखिया मुन्ना सहनी एवं पंचायत सचिव इंद्रनाथ भगत के द्वारा आठ अगस्त 2022 को 4 लाख 82 हजार पांच सौ रुपये तथा 16 अगस्त 2022 को 6 लाख 7 हजार 5 सौ रुपये की निकासी की गई है, परंतु इस निकासी के विरुद्ध नातो कोई अभिलेख, अभिश्रव, कोटेशन एवं मापी पुस्तिका उपलब्ध है, और न ही भौतिक रूप से आजतक कोई सामग्री का क्रय किया गया है, ना ही कोई कार्य किया गया है. पंचायत सचिव द्वारा मौखिक रूप से जानकारी दी गई है कि 4 लाख 82 हजार पांच सौ रुपये ठेला खरीदने हेतु अनिल कुमार सहनी को तथा 6 लाख 7 हजार 5 सौ रुपये सोख्ता निर्माण हेतु रामसेवक राय को दिया गया है. जांच के क्रम में पंचायत में न तो ठेला पाया गया और न ही सोख्ता का निर्माण हुआ. इस संबंध में कोई अभिलेख भी उपलब्ध नहीं है. इसी प्रकार षष्ठम वित्त आयोग से 23 मार्च 2022 को प्राप्त राशि 9 लाख 75 हजार 7 सौ 24 रुपये विकास मद में प्राप्त हुआ, जिसमें टाइड मद में 5 लाख 85 हजार 4 सौ 34 रुपये, अनटाइड में 3 लाख 90 हजार 2 सौ 90 रुपये, सामान्य मद में 3 लाख 59 हजार 4 सौ 72 रुपये, अनुरक्षण मद में 6 लाख 50 हजार 7 सौ 83 रुपये था, जिसमें कुल 19 लाख 85 हजार 6 सौ 71 रुपये में से दिनांक 5 अप्रैल 2022 को 8 लाख 95 हजार, 18 जून 2022 को 6 लाख 15 हजार तथा दिनांक 8 अगस्त 2022 को 3 लाख 83 हजार की निकासी की गई है. कुल 18 लाख 93 हजार रुपये की निकासी की गई है, जबकि पंचायती राज विभाग बिहार सरकार का स्पष्ट निर्देश है कि टाइड मद की राशि अभी खर्च नहीं की जानी है, और इसके लिए बाद में दिशा निर्देश जारी की जाएगी, लेकिन वित्तीय नियमों की अनदेखी कर टाइड मद की राशि निकासी कर ली गई है, इस सभी निकासी के विरुद्ध भी ना तो कोई अभिलेख, अभिश्रव, कोटेशन, एमबी नहीं उपलब्ध है. पंचायत सचिव इंद्रनाथ भगत द्वारा मौखिक रूप से यह जानकारी दी गई है, कि 9 लाख 98 हजार रुपये से स्ट्रीट लाइट की मरम्मती हेतु अनिल कुमार सहनी को दिया गया है, एवं 8 लाख 95 हजार रुपये से पंचायत कार्यालय में टेबुल, कुर्सी आदि सामग्री क्रय की गई, लेकिन इसका अभिलेख उपलब्ध नहीं है, चूंकि सामान्य मद 3 लाख 59 हजार 4 सौ 72 रुपये की राशि उपलब्ध थी, जबकि 8 लाख 95 हजार रुपये की सामग्री क्रय की गई. अनुरक्षण मद में 6 लाख 50 हजार 4 सौ 83 रुपये उपलब्ध थी, जबकि 9 लाख 98 हजार रुपये से स्ट्रीट लाइट की मरम्मती के नाम पर निकासी की गई, जो पूर्णतः अवैध है. यह स्पष्ट है कि मुखिया मुन्ना सहनी पंचायत सचिव इंद्रनाथ भगत पंचायत राज रसलपुर द्वारा ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के खाते से 10 लाख 90 हजार रुपये एवं षष्ठम वित्त आयोग के खाते से 18 लाख 93 हजार रुपये कुल 29 लाख 83 हजार रुपये नियम के विरुद्ध अवैध निकासी की गई है, एवं इसमें से 14 लाख 80 हजार रुपये अनिल कुमार सहनी नाम के व्यक्ति को दिया गया है, और 29 लाख 83 हजार रुपये की राशि के खर्च का कोई भी अभिलेख संधारित नहीं है. भौतिक रूप से भी कार्य नहीं किया गया है, जो मुखिया मुन्ना सहनी एवं पंचायत सचिव इंद्रनाथ भगत के द्वारा सरकारी राशि के गमन को दर्शाता है. उक्त आवेदन के आलोक में थानाध्यक्ष संतोष कुमार शर्मा ने थाने में कांड संख्या 156/22 दर्ज करते हुए मामले की छानबीन में जुट गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ESC