ESC

स्टाइपेंड में बढ़ोतरी की माँगों को लेकर इंटर्न चिकित्सकों का हड़ताल जारी 

गिरीयक : बिहार के कुल 9 मेडिकल कॉलेजों के इंटर्न चिकित्सकों का स्टाइपेंड में बढ़ोतरी के माँगों को लेकर छात्र मजबूती से तीसरे दिन भी खड़े रहे इसी कड़ी में नालंदा जिले के पावापुरी स्थित भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान के दो सौ इंटर्न चिकित्सकों नें अपनीं कार्यों पर पूरी तरह रोक लगाते हुए हड़ताल के तीसरे दिन भी शामिल रहे . इस दौरान हड़ताल पर बैठे इंटर्न चिकित्सक प्रशांत कुमार नें बताया की बिहार के सभी 9 कॉलेजों के इंटर्न चिकित्सकों द्वारा स्टाइपेंड में वृद्धि को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल मजबूर होकर करना पड़ रहा है जहाँ सरकार में बैठे लोग केवल हम सबों से काम लिया जाता है वहीं स्टाइपेंड में वृद्धि को लेकर हर वर्ष बढ़ाए जानें की बात कही गयी थी पर लगातार 6 वर्षों से स्टाइपेंड में वृद्धि को लेकर महज अस्वासन ही दिए जा रहे हैं जबकि स्टाइपेंड में दी जानें वाली राशी अन्य राज्यों के अपेक्षा बिहार में कम है . 

निराश होकर लौट रहे हैं मरीज

 इंटर्न चिकित्सकों में हड़ताल से पावापुरी स्थित भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान की व्यवस्था पूरी तरह ठप हो गयी है . गौरतलब हो की भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान में आस पास के नालंदा जिले के अतिरिक्त नवादा तथा शेखपुरा से बड़ी संख्या में मरीज यहाँ अपनें उपचार के लिए आते हैं . वहीं लगातार तीन दिनों से इंटर्न चिकित्सकों के हड़ताल से यहाँ आनें वाले मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है . नवादा जिला निवासी भारती कुमारी भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान इलायज के लिए आयीं थी परन्तु हड़ताल की जानकारी मिलनें पर उन्हें निराश होकर लौटना पड़ा वहीं शेखपुरा निवासी बबली कुमारी अपनें दो बच्चों को साथ लेकर इलायज के लिए भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान आयी थीं हड़ताल के कारण वापस लौटना पड़ा इस दौरान वगैर इलायज के वापस लौटनें वाले मरीजों में निराशा देखी गयी 

इमरजेंसी विभाग में बढ़ रही है लोगों की भीड़

 ओपीडी व्यवस्था ठप होनें से आनें वाले मरीज इमरजेंसी विभाग का भी चक्कर लगा रहे हैं जिससे इमरजेंसी में आनें वाले मरीजों को भी बेहतर व्यवस्था मुहैया नहीं हो पा रहा है साथ हीं साथ इमरजेंसी विभाग में सेवा दे रहे चिकित्सकों को भी कई तरह के परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है . इमरजेंसी विभाग में सेवा दे रहे चिकित्सकों की मानें तो ओपीडी के मरीजों के लिए संस्थान किसी तरह के वैकल्पिक व्यवस्था बनाए अन्यथा मरीजों के परिजनों का आक्रोश झेलना पड़ सकता है . 

हड़ताल के विषय पर क्या कहते हैं विम्स के अधिकारी

 भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान के अधीक्षक डॉ. ज्ञान भूषण नें जानकारी देते हुए बताया की अपनें स्तर से ऊपर के सम्बंधित अधिकारियों से बात कर कोई निष्कर्ष निकालनें को लेकर पहल की जा रही है . साथ हीं साथ हड़ताल पर बैठे इंटर्न चिकित्सकों के साथ बैठकर बातें की गई है . वहीं उन सबों से भी पुनः काम पर वापस लौटनें की अपील किए गए हैं वहीं उपाधीक्षक बी.बी.सिन्हा नें कहा की इंटर्न चिकित्सकों के विषयों को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय सहित अन्य अधिकारियों से बात की जा रही है जल्द ही सब ठीक हो जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ESC