ESC

बिहार के मुख्यमंत्री का अस्पताल हुआ बीमार : पीड़ित को अस्पताल में नहीं मिला बेड

बिहारशरीफ : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह क्षेत्र नालंदा का एकमात्र आईएसओ प्रमाणित बिहार शरीफ सदर अस्पताल की कुव्यवस्था आए दिन सामने आती रहती है. बावजूद इस पर कारवाई के नाम पर महज़ खानापूर्ति कर मामले को ठंडे बस्ते में दबा देती है. जिससे स्वास्थ कर्मियों का मनोबल सातवें आसमान पर बढ़ जाता है.यह कोई पहला मामला नहीं है. इस तरह की तस्वीर आए दिन देखने और सुनने को मिलती है. जिससे स्वास्थ व्यवस्थाओं को लेकर सरकार और उनके मंत्रियों द्वारा किए जाने वाले दावों की पोल खोल रही है. दरअसल मामला दीपनगर थाना क्षेत्र के मंडाच गांव का है.

जहां रास्ते को लेकर हुए विवाद में गोतिया के लोगों ने जमकर बुज़ुर्ग दंपति की पिटाई की. जिसके बाद उसे इलाज के लिए 112 आपातकालीन सेवा द्वारा इन्हें भर्ती कराया गया. जहां बुजुर्ग रविंद्र पांडे को गंभीर चोटें आई है.उनका इलाज के बाद सदर अस्पताल में बेड नसीब नहीं हुआ. इस दौरान पीड़ित ने बताया कि निजी क्लीनिक में इलाज के लिए पैसा नहीं है इसलिए बेड नहीं मिला तो ज़मीन पर ही लेट गए हैं. पैर का चोट गंभीर था, इसलिए चलने में दिक्कत हो रहा है. वहीं, इस मामले में सदर अस्पताल के डीएस डॉ. रामानंद प्रसाद ने बताया कि यह तस्वीर बेहद शर्मनाक है, इस बात की जानकारी आपके माध्यम से मिली है जांच कर कारवाई की जाएगी.आपको बता दें कि यह कोई पहली तस्वीर नहीं है इस प्रकार की कुव्यवस्था आए दिन सदर अस्पताल में देखने को मिलती है। हालांकि देर रात मीडिया कर्मी के पहल पर मिला बेड, साथ ही बिहार शरीफ सदर अस्पताल के अस्पताल उपाधीक्षक डॉ रामानंद प्रसाद कर रहे हैं इस पर जांच।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ESC