ESC

मुजफ्फरपुर : मां की जिद व सेविका के सुझाव ने कमजोर नवजात के चेहरे पर लायी आभा

  • एसएनसीयू हाजीपुर की भूमिका भी रही सराहनीय
  • मां बैठक में आभा ने स्तनपान की ली थी शपथ

मुजफ्फरपुर। 9 सितंबर

एक मां जिसकी 12 साल में शादी हुई। 17 की उम्र में पहली और 18 में दूसरी बार गर्भवती हुई, दुर्भाग्य से दोनों ही बार वह बच्चे को जन्म नहीं दे पायी। तीसरी बार 25 की उम्र में फिर गर्भवती हुई और इस बार वह मां भी  पर यहां भी दुर्भाग्य ने उसके बच्चे को उसके दूध से अलग रखा। यह बात सरैया की आभा के हृदय को बार -बार जख्मी करता था। चौथी बार वह 27 की उम्र में गर्भवती हुई और इस बार भी मां बनी। इस बार उसने सोच रखा था कि वह बच्चे को स्तनपान जरूर कराएगी। आभा के मन में यह व्यवहार परिवर्तन मां बैठक में हिस्सा लेने से आया था। आखिर इसी बैठक में उसने स्तनपान कराने की शपथ भी ली थी।

आभा को समय से हुआ प्रसव-

पोषण पर काम कर रहे अलाइव एंड थ्राइव के मनीष कहते हैं कि आभा को जो बच्चा हुआ था, वह एक महीने पहले हुआ था, यानी प्रीटर्म। जन्म के समय उसका वजन मात्र 21 सौ ग्राम था। वह काफी कमजोर था और स्तनपान करने में अक्षम था। मेरे, केयर इंडिया के सतीश और सेविका सलीता ने लगातार गृह भ्रमण कर उसे पोषण पर जानकारी दी। लगातार फॉलोअप और गृह भेंट कर आभा को नियमित सुझाव दिया जाने लगा। लगभग एक महीने के अंदर बच्चा ठीक से दूध पीने लगा। अब आभा देवी अपने ससुराल वैशाली चली गयी है।

एक महीने बाद बच्चे को आया कन्वलजन-

मनीष कहते हैं कि आभा जब अपने ससुराल वैशाली चली गयी, तब उसके बच्चे ने फिर से दूध पीना बंद कर दिया।  वहीं उसे नियोनेटल कन्वलजन भी आने लगा। लालगंज पीएचसी में दिखाने के बाद उसे हाजीपुर स्थित एसएनसीयू भेजा गया, जहां डॉ अजय लाल की देखरेख में बेहतर इलाज के बाद डिस्चार्ज कर दिया। आभा और उसका बच्चा फिर सरैया आ गया। आशा पुष्पा ने इसकी जानकारी मुझे दी। फिर से मैं, केयर इंडिया के सतीश और सेविका सलीता आभा के घर जाकर पोषण संबंधी सुझाव दे रहे  हैं। 21 सौ ग्राम का वह कमजोर बच्चा दो महीने बाद 3510 ग्राम का हो चुका है और अब पूरी तरह स्वस्थ भी है।

लगातार गृह भेंट ला सकता है व्यवहार परिवर्तन-

मनीष कहते हैं कि मां बैठक के दौरान हर हफ्ते गर्भवती और धात्री माताओं से भेंट और प्रसव के बाद लगातार गृह भेंट से लोगों में व्यवहार परिवर्तन संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ESC