नियमों के पालन करवाने वाले परिवहन विभाग अधिकारी ही उड़ा रहे नियमों की धज्जियां। देखिए कैसे

Nalanda : बिहार में इन दिनों जनता यातायात चालान को लेकर काफी परेशान आए दिन किसी न किसी चौराहे पर ट्रैफिक पुलिस के द्वारा बिना हेलमेट के वाहनों को चेक कर कर चालान काटा जाता है। साथ ही नो पार्किंग एरिया में गाड़ी खड़ी करने वालों वाहन चालकों का भी चालान काटा जाता है। यह चालान बिहार शरीफ शहर के स्मार्ट सिटी होने के बावजूद भी शहर में कहीं पार्किंग की व्यवस्था नहीं है जिसके बावजूद भी नो पार्किंग में गाड़ी खड़ी करने वाले चालकों का चालान काटा जाता है जबकि शहर में कहीं भी पार्किंग की व्यवस्था नहीं है तो वाहन चालक गाड़ी कहां पर खड़ी करें यह सबसे बड़ा सवाल है। और अगर वाहन चालक हेलमेट पहनना भूल गए हैं तो उनके जेब पर यह बहुत भारी पड़ता है और हजारों रुपए का चालान कट जाता है ।लेकिन अधिकारियों पर यह चालान लागू नहीं किया जाता है मैं बात कर रहा हूं बिहार शरीफ परिवहन विभाग में खड़ी अधिकारी की जीप की जिसका नंबर आप देख रहे हैं आपको बता दें कि इस गाड़ी का प्रदूषण भी फेल है और फिटनेस भी फेल है चाहे तो आप इनकी गाड़ी का नंबर BR22J0011 है ।

जिसे आप परिवहन विभाग के साइट पर अंकित कर चेक कर सकते हैं। प्रदूषण तू फेल हुए 5 महीने बीत चुके हैं वही फिटनेस को फेल हुए 4 महीने बीत चुके हैं तो अब सवाल यह है कि परिवहन विभाग के अधिकारी के ऊपर कितने रुपए का चालान लगाएगी सरकार या फिर अनदेखा करेगी और इसकी भरपाई आम जनता के चालान के रूप में की जाएगी।

भारतीय संविधान के मुताबिक कानून के नियम सभी के लिए बराबर हैं चाहे वह आम जनता हो या कोई बड़ा अधिकारी। अब ऐसे में अगर आम आदमी के किसी भी की गाड़ी का प्रदूषणऔर फिटनेस फेल होता तो परिवहन विभाग के द्वारा तकरीबन ₹10000 तक का जुर्माना तो जरुर वसूला जाता। तो अब तक इन अधिकारी के गाड़ियों का चालान क्यों नही वसूला गया है या फिर क्यों नहीं इनकी प्रदुषण और फिटनेस बनवाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *