gold

कालाजार सुई पर दक्ष हुईं प्रशिक्षु नर्स, प्रबंधन और उपचार में मिलेगी सहायता

  • अब एक सुई में उपलब्ध है कालाजार का इलाज 
  • नर्सिंग फाइनल ईयर की छात्राओं को भी मिला प्रशिक्षण

सीतामढ़ी, 28 नवंबर । कालाजार के उपचार में प्रयुक्त होने वाली एम्बीजोम सुई के उचित प्रबंधन और उपचार में दक्षता को बढ़ाने के लिए प्रशिक्षु नर्सों को तकनीकी प्रशिक्षण दिया गया। यह प्रशिक्षण जिला वेक्टर बॉर्न रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ रविन्द्र कुमार यादव ने दिया । डॉ  यादव ने कहा कि प्रशिक्षण में नर्सिंग की फाइनल ईयर की छात्राओं को भी शामिल किया गया था, ताकि भविष्य में भी यह उनके काम आए। प्रशिक्षण के समय डॉ रविन्द्र ने बताया कि संक्रमण मुक्त सुई के साथ दवाओं के मिश्रण का सही अनुपात हमारी प्राथमिकता होती है। चूंकि इस सुई की दवा दो तीन तरह के मिश्रण से तैयार होती है इसलिए इसके अनुपात का हमें खास ध्यान रखना पड़ता है। इस सुई  के प्रत्येक वाइल के साथ एक फिल्टर का प्रयोग करते हैं। ताकि दवा का मिश्रण पूरी तरह शुद्ध हो। इसके अलावा दवाओं का प्रबंधन भी बहुत जरूरी होता है। इसमें कुछ खास बातों का ख्याल रखना होता है, जैसे तापमान का दो से आठ डिग्री के बीच होना और दवाओं का सीधे धूप के संपर्क से बचाकर रखना। इसलिए इसके लिए आइस लाइन रेफ्रिजरेटर का उपयोग होता है। कालाजार के लिए प्रयुक्त होने वाली सुई हमेशा टेस्ट डोज के बाद ही दी जाती है। 

एक सुई से कालाजार से मुक्ति- 

डॉ रविन्द्र कुमार यादव ने कहा कि अब एक सुई  से कालाजार से छुटकारा मिल जाता है। जिसका नाम एम्बीजोम है। यह दवा बहुत ही महंगी है जो सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही मिलती है। इस एक सुई से तीन दिन के अंदर कालाजार का बुखार खत्म हो जाता है।  वहीं दो से तीन दिन के अंदर इसके 97 प्रतिशत परजीवी भी नष्ट हो जाते हैं। वहीं पीकेडीएल के लिए मिल्टेफोसीन नामक दवा का उपयोग किया जाता, जो 84 दिनों तक लिया जाता है। कालाजार के लिए दी जाने वाली सुई  सदर अस्पताल सीतामढ़ी, सीएचसी सुरसंड और पुपरी में उपलब्ध है। वहीं पीकेडीएल की दवा सभी पीएचसी में उपलब्ध है।
 
एक्टिव सर्विलांस कालाजार उन्मुक्त जिला का राज –

डॉ रविन्द्र ने कहा कि जिले में एक भी मरीज मिलने पर हम उसकी तुरंत ही निगरानी और उपचार करने में जुट जाते हैं। जैसे एक मरीज की जानकारी शनिवार को डुमरा में हुई। उसकी उसी दिन और शारीरिक जांच कर कालाजार के लिए सिंगल डोज सुई लगा दी गयी। वहीं उसके घर के पांच सौ मीटर के आस-पास एसपी पाउडर का छिड़काव भी किया गया।

Leave a Reply

Vishwa
  1. You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: