गंगा नदी के भीषण कटाव से सैकड़ों बीघा खेती योग्य भूमि गंगा की गर्भ में विलीन।

तेघड़ा (बेगूसराय) तेघरा प्रखंड के अयोध्या एवं आधारपुर, रात गांव पंचायत समीप गंगा के जलस्तर में कमी आने के साथ ही भीषण कटाव का दौर शुरू हो गया है। दिन प्रतिदिन स्थिति भयावह बनता जा रहा है। बहुत कम समय में सैकड़ों बीघा उपजाऊ जमीन गंगा की गोद में समा गई है। जिसको लेकर गंगा क्षेत्र के किसानों में मायूसी, निराशा एवं चिंताजनक स्थिति बनी हुई है। कटाव प्रभावित क्षेत्र के किसानों का कहना है कि विगत वर्ष से ही कटाव हो रही है। पिछले वर्ष भी सैकड़ों एकड़ भूमि गंगा में विलीन हो गई थी इस इस बार की कटाव का रफ्तार तेज है ।वही कटाव से बिजली टावर की की दूरी 30 से 40 फीट पर है। बिजली कंपनी के अधिकारियों ने स्थल निरीक्षण के बाद बिजली टावर को बचाने के लिए कटाव की रोकथाम का प्रारंभिक प्रयास शुरू किया है।लेकिन इसका स्थाई निदान नहीं होने से – अब कटाव और विकराल रूप धारण कर लिया है। तेघरा की विधायक राम रतन सिंह ने कटाव के निरीक्षण हेतु भाकपा के एटक नेता रविंद्र कुमार एवं नौजवान संघ के प्रदीप कुमार चिंटू को निर्देशित किया। दोनों प्रतिनियुक्त प्रतिनिधि ने कटाव स्थल का दौरा कर बताया कि कटाव स्थल पर विधायक के पहल पर पदाधिकारियों की ओर से कटाव रोधी कार्य जारी है। किसानों का ज्यादा नुकसान नहीं हो इसके लिए लगातार अधिकारियों को इस कार्य के लिए प्रेरित किया जा रहा है। वही एआईएसएफ के अंचल सचिव मोहम्मद हसमत उर्फ बालाजी ने विभागीय ओर से कटाव रोकथाम की व्यवस्था को मुस्तैदी से चुस्त-दुरुस्त करने की मांग की।

अशोक कुमार ठाकुर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *