पहली बार बिहार की राजधानी पटना में ओशो मेडिटेशन कैंप का आयोजन।

Patna : डेढ़ लाख बुक्स पढ़ने वाले 20वी सदी के महामानव थे ओशो । उनका नाम रजनीश था। भक्तो ने उन्हें ओशो के नाम से बुलाना शुरू कर दिया था ।ओशो ओशेन से निकला है। ओसेन का मतलब समुंद्र होता है।कहा जाता है ओशो समुंद्र की तरह विराट थे। बुद्ध महावीर के बाद सायद ही कोई संत इस धरती पे अवतीर्ण हुए जिन्होंने असंख्य ह्रदय को झंकृत किया हो। भगवान ओशो का जन्म मध्यप्रदेश के जबलपुर के कुचवाड़ा गांव में हुआ था। दुनिया में कोई ऐसा देश नहीं है जहां ओशो का बुक्स नहीं पढ़ा जाता है।उन्होंने कुल 600 बुक्स लिखे है। 1000 घंटे पर वचन भी दिये। उनके जैसा आज तक कोई वक्ता नहीं हुआ। उन्होंने जो अपने पर वचन में कहा बही बुक्स में बिना किसी मिलावट के लिखा गया। बोलने पे इतना कमांड था कि जो बोल दिया सो बोल दिया। उन्होंने कभी किन्तु परन्तु मेरा कहने का मतलब ऐसा था शब्दो का प्रयोग किया है।क्युकी जो कह दिया वो सैदैव सत्य होता था। बात उनकी भक्तो की करे तो उनके भक्त बड़े बड़े वैज्ञानिक, प्रोफेसर, गीतकार ,सेलिब्रेटी हुआ करते थे।आज के तारीख में उनका भक्त इंडिया में रजनीकांत,प्रियंका चोपड़ा,पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह यह तक कि नरेंद्र मोदी भी ओशो के भक्त है।ओशो ने कहा था मैं अमीरों का गुरु हू। बो इसलिए कि जब तक आदमी धन की तलाश में है रोटी की तलाश में वासना कि तृप्ति में लगा है तब तक परमात्मा से मिलने का भूख उसे कैसे जग सकता है।सब कुछ से तृप्त होकर आखरी प्यास परमात्मा का होता है।इसलिए उन्होंने कहा था मै अमीरों का गुरु हू।पहली बार ओशो मेडिटेशन कैंप विहार की राजधानी में होने जा रहा है।इस से पहले एमपी सरकार ने उनका जन्मोत्सव जबल पुर में मनाया था। ये मेडिटेशन कैंप तीन दिनों तक चलेगा ।23दिसम्बर से 26दिसम्बर तक चलने वाले इस मेडिटेशन कैंप में ध्यान योग सिखाया जाएगा और साथ में परकांड वक्ता भी उपस्थित होंगे। शिविर स्थल राणा प्रताप मेमोरियल ट्रस्ट भवन आर्य कुमार रोड मधुआ रोली पटना है।दुनिया भर से हजारों अनुयायि इस मेडिटेशन कैंप में पहुंच रहे है।ओशो ने स्त्री को भगवान कहा है। महान फिल्मकार सुभाष घाई ने कहा है ओशो 400साल आगे की लिख दी है। जो भी उन्होंने कहा ह आने वाले 50साल में लोगो को समझ में आएगा।फ्यूचर बिलोंग्स टू लेडी उनका आखरी कथन था।

धर्मराज युधिष्ठिर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *