करोना की तीसरी लहर को दी जा रही दावत, लापरवाही की हद पार

तेघरा (बेगूसराय) कोरोना वायरस की कहर को याद करके भी हर किसी की रूह कांप उठती है। याद है वो दिन जब अस्पतालों के बाहर लाइन लगी रहती थी। लोग ऑक्सीजन के लिए भटक रहे थे, दवाइयों के लिए तरप रहे थे। हर किसी ने दूसरी लहर में अपनों को खोया है।आज फिर से करोना की तीसरी लहर की संभावना का प्रारंभिक चरण की शुरुआत होती जा रही है। ये धीरे-धीरे लोगों को अपनी चपेट में लेने की सिल – सिला तेज कर दी है। प्रखंड प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग टीकाकरण की लक्ष्य की प्राप्ति के लिए नए-नए कार्य योजना के तहत इस ओर सफलता के क्रियान्वयन में आगे बढ़ रही है। नए वेरिएंट ओमोंक्रोन व संक्रमण की संभावित तीसरी लहर से निबटने के लिए पुख्ता व्यवस्था की जा रही है।तेघरा अनुमंडलीय अस्पताल के सभी वार्डों में ऑक्सीजन गैस की आपूर्ति की इमरजेंसी व्यवस्था की गई है। इसके लिए ऑक्सीजन का 15 सिलेंडर सुरक्षित है। अस्पताल के सभी 5 वार्डों में 6 – 6 बेडों को ऑक्सीजन प्लांट से जोड़ दिया गया है। अस्पताल में इमरजेंसी के लिए 200 खाली सिलेंडर का भंडारण भी किया गया है। अब तक प्रखंड में प्रथम डोज का 1 लाख78 हजार लक्ष्य के अनुरूप 1 लाख 55 हजार लोगों को टीका लगाया जा चुका है। इतने प्रयासों के बावजूद भी लोग सब कुछ भूल गए हैं। बाजार, हाट, रेलवे स्टेशन, बैंक परिसर तथा अन्य सार्वजनिक स्थलों के साथ ही भोज आदि अन्य कार्यक्रम का आनंद लोग जमकर उठा रहे हैं। पिछले दिन संपादित हुए पंचायत चुनाव के दरमियान भी लोगों ने जमकर करोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाई । वर्तमान दौर में ना कहीं मास का उपयोग होता है और ना ही सामाजिक दूरी का अनुपालन हो पाता है। सवारी गाड़ियों में पैसेंजरों को बिना मास्क के भेड़ बकरियों की तरह ठुसे जा रहे हैं। विद्यालय भी खुले हुए हैं लेकिन मांस्क का उपयोग नहीं के बराबर होता है । चिंतनीय यह भी है कि बच्चों को अब तक करोना रोधी टीके भी नहीं लगवाए गए हैं। मानों करोना की तीसरी लहर को दावत दी जा रही है।

अशोक कुमार ठाकुर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *