प्रधानमंत्री पोषणण योजना के संचालन से एचएम ने खड़े किए हाथ।

तेघरा (बेगूसराय) तेघरा प्रखंड के प्राथमिक विद्यालयों के एचएम ने सामूहिक रूप से प्रधानमंत्री पोषण योजना के संचालन से अपने हाथ खड़े कर दिए। शनिवार को प्रखंड के प्रधानाध्यापकों द्वारा जिला कार्यक्रम पदाधिकारी बेगू मेंसराय के नाम प्रेषित आवेदन पत्र में प्रधानाध्यापकों ने हस्ताक्षर कर यह कहा है कि पोषण योजना में संलिप्तता की वजह से गुणवत्ता शिक्षा में काफी दिक्कत होगी। साथ ही शिक्षा के अधिकार अधिनियम 2009 में वर्णित अनिवार्य व नि:शुल्क शिक्षा प्रदान करने में प्रधानाध्यापकों एवं शिक्षकों को मध्यान्ह भोजन जैसे गैर शैक्षणिक कार्य से मुक्त करने की मांग की गई है।ताकि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विभिन्न प्रावधानों के अनुसार छात्रों को अनिवार्य व मुक्त शिक्षा प्रदान किया जा सके। आवेदन के माध्यम से प्रधानाध्यापकों ने इस योजना के संचालन एवं क्रियान्वयन में ढेर सारी बधाएं एवं जटिल भुगतान प्रक्रिया के साथ ही संसाधनों की कमी की जिक्र की है। जिसमें संसाधनों की कमी, कंप्यूटर, प्रिंटर ,स्कैनर , एवं डाटा एंट्री ऑपरेटर की कमी के कारण कार्य उनके लिए असंभव और अव्यवहारिक भी प्रतीत होता है। इन तमाम बिंदु को दर्शाते हुए आवेदन में अंकित किया गया है .कि विद्यालयों में छात्र-छात्राओं के बीच गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को संचालित करने में सबसे बड़ी बाधा साबित होगी ।इसलिए इस कार्य से प्रधानाध्यापक को मुक्त रखना अनिवार्य और आवश्यक होगा। पत्र के माध्यम से आग्रह किया गया है की एनजीओ या फिर अन्य सूत्रों के माध्यम से योजनाओं को क्रियान्वित करवाने की मांग करते हुए जिला कार्यक्रम पदाधिकारी से उक्त योजना से प्रधानाध्यापकों को अलग रखने की मांग की है । ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना विद्यालयों में बच्चों को कुपोषण से मुक्त बनाने के उद्देश्य से चलाए जाने वाली एक केंद्र प्रायोजित योजना है। जिस योजना की मंजूरी पिछले 19 दिसंबर को दी गई। पिछले 2 वर्षों से स्कूलों में पका हुआ भोजन बनाने का कार्य लगभग ठप ही रहा। इस एवज में बच्चों को सूखा राशन ही दिया जा रहा है। लेकिन इस योजना पर खर्च की जाने वाली राशि का एफ एम एस के जरिए पूरी तरह डिजिटल भुगतान किया जाना है। इस योजना के दायरे में 5 साल तक के सभी बच्चे आएंगे। मिडडे मील योजना का लाभ 6 से 14 साल तक के बच्चों को ही मिलता था।

अशोक कुमार ठाकुर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *