ब्राह्मणों को गाली देने पर मांझी की नई सफाई, बोले- शराबी और गलत ढंग से पूजा कराने वालों को कहा

Gaya : हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (HAM) प्रमुख जीतन राम मांझी ने ब्राह्मणों पर एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जिनके लिए मैंने वो बात कही थी, उस पर कायम हूं और एक बार नहीं हजार बार उन्हें वह अपशब्द बोलूंगा। उन्होंने कहा कि हमने पंडित या ब्राह्मण समाज के ऊपर कोई टिप्पणी नहीं की थी। हमने तो वैसे लोगों के लिए अपशब्द का इस्तेमाल किया है, जो गलत ढंग से पूजा-पाठ कराने आते हैं। ऐसे लोगों के लिए एक बार क्या, हजार बार उन्हीं शब्दों का इस्तेमाल करूंगा। हालांकि विवाद बढ़ने पर भले ही उन्होंने माफी मांग ली है।

एक बार नहीं हजार बार उस शब्द को दोहराऊंगा
बोध गया स्थित अपने फार्म हाउस पहुंचे HAM प्रमुख जीतन राम मांझी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की और अपने बयान को नए अंदाज में पेश करते हुए कहा कि एक बार नहीं हजार बार उस शब्द को दोहराऊंगा। क्योंकि वह कोई गाली नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने पंडित या ब्राह्मण समाज के ऊपर कोई टिप्पणी नहीं की थी।

हमने तो वैसे लोगों के लिए ‘अपशब्द’ का इस्तेमाल किया है, जो गलत ढंग से पूजा-पाठ कराने आते हैं। जिन्हें श्लोक और किताब से कोई मतलब नहीं है। केवल अखबार लेकर पूजा कराते हैं। वैसे लोग अपने आप को पुजारी कहते हैं। हमने वैसे पुजारी के लिए उस शब्द इस्तेमाल किया था।

बोध गया में अपने फार्म हाउस पहुंचे HAM प्रमुख जीतन राम मांझी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

बोध गया में अपने फार्म हाउस पहुंचे HAM प्रमुख जीतन राम मांझी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

HAM प्रमुख ने आगे कहा कि ये ऐसे लोग होते हैं, जो मांस खाते हैं, मदिरा पीते हैं और पूजा भी कराने आते हैं। ये अनुसूचित और दलित टोले में जाकर पूजा के नाम पर पैसे लेते हैं। लेकिन उस घर का खाना तक नहीं खाते हैं और ना ही पानी पीते हैं।

वहीं, उन्होंने BJP नेता के जरिए उनकी जीभ काटने वालों को 11 लाख रु इनाम देने की घोषणा किए जाने के बयान पर कहा कि ये उनका मामला नहीं है बल्कि बीजेपी इस मामले को देखे कि वह उस नेता के साथ क्या करेगी। उन्होंने कहा कि वह इस मामले को लेकर NDA से जोड़ना नहीं चाहते हैं। NDA यानी के नीतीश कुमार से हमारा गठबंधन है। इसलिए हम घटक दल का हिस्सा हैं।

क्या कहा था जीतन राम मांझी ने
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने 18 दिसंबर (शनिवार) को निशाने पर ब्राह्मण थे। पटना में भुइयां समाज के मंच से बोलते वक्त उन्होंने ब्राह्मण समाज के लिए बहुत गलत भाषा का इस्तेमाल किया। उनके इस बयान का वीडियो रविवार को वायरल हो गया। वीडियो में मांझी कहते नजर आए कि दलित समाज में आजकल सत्य नारायण भगवान की पूजा का प्रचलन काफी तेज हो गया है। जगह-जगह ब्राह्मण जाकर सत्य नारायण भगवान की पूजा कराते हैं। हमारे समाज में ब्राह्मण @#$%… (गाली) जाते हैं, लेकिन खाना नहीं खाते हैं। सिर्फ पैसा लेते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *