BREAKING NEWS
मुख्यमंत्री के गृह जिले में 'सात निश्चय' योजना अधूरी : 10 साल बाद भी नल जल से वंचित गांव...        कोसुक डंपिंग यार्ड से निकलने वाले जहरीले धुएं से ग्रामीण परेशान : ग्रामीणों की सेहत पर खतरा...        नालंदा में ग्रामीण विकास मंत्री के ही क्षेत्र में नही हुआ है सड़कों का विकास...        रामनवमी जुलूस और लोकसभा चुनाव प्रशासन की प्रतिबद्धता : शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से होगा आयोजन...        रामलखन सिंह यादव महाविद्यालय के छात्रों ने लोकतंत्र को करीब से समझा : आखिर कैसे पढ़िए पूरी खबर...        रामनवमी शोभा यात्रा को स्थगित किए जाने को लेकर विहिप द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति है भ्रामक : जिला प्रशासन करेगी जांच...        क्षेत्र भ्रमण के दौरान जनता ने सांसद कौशलेंद्र कुमार को दिखाया सच का आईना...        वर्ग 5 एवं वर्ग 8 की वार्षिक परीक्षा समाप्ति के उपरांत शिक्षक व अभिभावक का बैठक आयोजन...        बिहारशरीफ में पंचाने नदी के किनारे युवक का शव मिलने से सनसनी...        है तैयार हम : नालंदा पुलिस द्वारा जिले से अपराधी व अपराध का सफाया अभियान जारी...       
post-author
post-author
post-author
post-author

नालंदा में एक बार फिर दिखा अतिक्रमण हटाओ अभियान का असर

Bihar 15-Apr-2023   10474
post

नालंदा : जिले में अतिक्रमण करने वालों की अब खैर नहीं क्योंकि जिले में अतिक्रमण कर निवास कर रहे लोगों को ऊपर अब सरकार की नजर है। आपको बता दें कि परवलपुर प्रखंड के चौसंडा पंचायत के पवई गांव में शनिवार को भारी पुलिस बलों की मौजूदगी में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया।


इस दौरान प्रखंड विकास पदाधिकारी अंचलाधिकारी थानाध्यक्ष डीसीएलआर समेत भारी संख्या में सुरक्षाकर्मी अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत मौके पर मौजूद रहे। परवलपुर प्रखंड विकास पदाधिकारी उषा कुमारी ने बताया कि पटना हाईकोर्ट के आदेश पर आज अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जा रहा है।


इसके पूर्व इस इलाके के कई मकानों को घर खाली करने के लिए नोटिस भी दिया गया था। यह सभी सरकारी जमीन पर मकान बनाकर कई वर्षों से निवास कर रहे थे। जिसके बाद पटना हाई कोर्ट के निर्देश पर इन सभी को यहां से हटाने का काम जारी है। वही पवई गांव के ग्रामीणों ने बताया कि पिछले 50 सालों से वह इसी इलाके में रह रहे हैं अब अचानक उन्हें अतिक्रमण के नाम पर हटाने का काम किया जा रहा है।जिससे दर्जनों घर के लोग बेघर हो चुके हैं। सरकार ने कोई भी वैकल्पिक व्यवस्था हम लोगों के लिए नहीं किया है। हम लोग इस चिलचिलाती गर्मी में खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर है। हालाकि अतिक्रमण को लेकर कितने मकानों को नोटिस दिया गया उसके बारे में साफ तौर पर कुछ बताने से परहेज किया है.

post-author

Realated News!