BREAKING NEWS
मुख्यमंत्री के गृह जिले में 'सात निश्चय' योजना अधूरी : 10 साल बाद भी नल जल से वंचित गांव...        कोसुक डंपिंग यार्ड से निकलने वाले जहरीले धुएं से ग्रामीण परेशान : ग्रामीणों की सेहत पर खतरा...        नालंदा में ग्रामीण विकास मंत्री के ही क्षेत्र में नही हुआ है सड़कों का विकास...        रामनवमी जुलूस और लोकसभा चुनाव प्रशासन की प्रतिबद्धता : शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से होगा आयोजन...        रामलखन सिंह यादव महाविद्यालय के छात्रों ने लोकतंत्र को करीब से समझा : आखिर कैसे पढ़िए पूरी खबर...        रामनवमी शोभा यात्रा को स्थगित किए जाने को लेकर विहिप द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति है भ्रामक : जिला प्रशासन करेगी जांच...        क्षेत्र भ्रमण के दौरान जनता ने सांसद कौशलेंद्र कुमार को दिखाया सच का आईना...        वर्ग 5 एवं वर्ग 8 की वार्षिक परीक्षा समाप्ति के उपरांत शिक्षक व अभिभावक का बैठक आयोजन...        बिहारशरीफ में पंचाने नदी के किनारे युवक का शव मिलने से सनसनी...        है तैयार हम : नालंदा पुलिस द्वारा जिले से अपराधी व अपराध का सफाया अभियान जारी...       
post-author
post-author
post-author
post-author

नालंदा में 1 हफ्ते में ध्वस्त हुआ पीएम मोदी का डिजिटल इंडिया : इंटरनेट सेवा बंद को लेकर नालंदा रच रहा एक नया कीर्तिमान

Bihar 07-Apr-2023   9642
post

बिहारशरीफ : 21 मार्च शुक्रवार को नालंदा में हुए इंसान घटना को लेकर नालंदा जिला प्रशासन के द्वारा इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया लगातार 8 दिनों से इंटरनेट सेवा बंद होने से पीएम मोदी के डिजिटल इंडिया नालंदा में ध्वस्त हो गया। लगातार दिनों से जिले वासी इंटरनेट सेवा बंद होने से कई परेशानियों का सामना कर रहे हैं यहां तक की जिले में आरटीपीएस केंद्रों में भी सन्नाटा पसरा है क्योंकि जा इंटरनेट सेवा बाधित है कोई भी व्यक्ति या कोई भी वसुधा केंद्र आय जाति आवासीय जैसे आवेदन की प्रक्रिया करने से असमर्थ हैं। वहीं दूसरी तरफ बिहार में पहले से ही बेरोजगारी चरम सीमा पर है लेकिन बीते दिनों में युवाओं ने रोजगार के अवसर प्राप्त करने से पहले ही उसके आवेदन करने में असमर्थ है क्योंकि जब इंटरनेट सेवा बाधित है तो किसी भी साइबर कैफे में या कोई भी व्यक्ति अपने निजी उपकरणों से किसी भी प्रकार के सरकारी और गैर सरकारी रोजगार आवेदन की प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए।तकनीकी रूप से कई व्यवसायों, ऑनलाइन एजुकेशन और कॉरपोरेट सेक्टर से जुड़े कर्मचारियों पर गहरा प्रभाव पड़ा है। यहां तक की शहर के कई लोगों का मासिक ईएमआई के भुगतान ना होने से उन्हें अतिरिक्त शुल्क भी चार्ज कर दिया गया। इंटरनेट बंद होने से ऐसे कई। तरह के परिशानियो से आमजन बेहद प्रभावित हुए है। लोगो का कहना है की बिना इंटरनेट के तो हजारों लाखों का फोन और लैपटॉप डब्बा जैसा लगता है। आज 5 अप्रैल है हम लोग का ईएमआई नही भुगतान होने के वजह से अतिरिक्त शुल्क जुर्माने के तौर पर लगाया गया। वहीं शिक्षण संस्थान से जुड़े शिक्षक और छात्र छात्राओं का पढ़ाई भी प्रभावित हुआ है। आपको बता दे की नालंदा में पहली बार इतने लंबे समय तक के लिए इंटरनेट सेवा बंद हुई है जिससे लोग काफी ज्यादा परेशान है। वहीं इस मामले से जुड़ी एक और समस्या भी सामने आए जहां पेट्रोल पंप संचालक भी इंटरनेट सेवा बाधित होने से परेशान दिखे उनका कहना है की हमारे पेट्रोल पंप लाइन यूपीआई के माध्यम से भी पेमेंट का भुगतान कर पेट्रोल और डीजल लोग प्राप्त करते हैं लेकिन पिछले 8 दिनों से सेवा बाधित होने से इस तरह के सभी डिजिटल लेनदेन पर प्रभाव पड़ा है। वही एक समस्या घेरलू गैस से जुड़ी हुई है पीएम मोदी के डिजिटल इंडिया योजना से अन्य सभी लाभों में से एक ऑनलाइन गैस ऑर्डर करने वाली सुविधा भी ध्वस्त हुई है जिससे लोग किसी भी प्रकार के घरेलू गैस का ऑर्डर नही कर पा रहे हैं। इंटरनेट बाधित होने से प्राइवेट वाहन चालकों को भी इस समस्या का मार झेलना पड़ा रहा है। साथ ही रोजाना ट्रेडिंग शेयर मार्केट से जुड़े लोगों को भी इसका बेहद नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा अन्य कई और समस्याएं भी हैं जिससे लोग इंटरनेट चलाने की वजह से शहर से पलायन करने के लिए मजबूर हो चुके हैं शहर के कई लोग तो इंटरनेट चलाने को लेकर जिला छोड़ चुके हैं।

इंटरनेट सेवा बाधित करने में नालंदा रच रहा एक नया कीर्तिमान

देश में इंटरनेट का महत्व सबसे ज्यादा है और इसी इंटरनेट को लेकर एक बड़ी जानकारी भी प्राप्त हुई है जो की आपको बता दूं कि देश में सबसे ज्यादा समय तक इंटरनेट सेवा 2019 में कश्मीर में बाधित हुई थी जिसमे 21 सप्ताह इंटरनेट सेवा बंद किया गया था। अब दूसरे नंबर पर बिहार का नालंदा जिला है जहां लगातार 8 दिनों से इंटरनेट सेवा बंद है। नालंदा जिला प्रशासन बस घटना और विधि व्यवस्था का हवाला देकर लोगों को लगातार परेशान कर मुश्किलों में डाल रही है। आम लोगो को हो रही आर्थिक नुकसान का जिम्मेदार कोई है तो वो है जिला प्रशासन।

post-author

Realated News!

Leave a Comment

Sidebar Banner
post-author
post-author
post-author
post-author